एकजुट हुए लोग, कहा नहीं देंगे रंगदारी

जेल से छूटते ही बिल्ला ने पिस्तौल के बल पर मोजाहिदपुर के व्यवसायियों को शुरू किया धमकाना
15 दिसंबर को कैंप जेल से छूटने के बाद आठ व्यवसायियों से मांग चुका है रंगदारी
गिरोह के अन्य सदस्य भी हो गये हैं सक्रिय
बिल्ला ने एक व्यवसायी से दो पिस्तौल मंगवा कर भी कहा देने को

भागलपुर : जेल से छूटते ही बिल्ला उर्फ शहजादा का आतंक शुरू हो गया है. 15 दिसंबर को कैंप जेल से छूटने के बाद से वह मोजाहिदपुर इलाके में आठ व्यवसायियों से पिस्तौल के बल पर रंगदारी मांग चुका है. एक व्यवसायी से तो उसने पिस्तौल की ही मांग कर दी. वह व्यवसायियों से मिल कर किसी से पचास हजार तो किसी से एक से दो लाख की मांग कर रहा है. वह सिल्क, छर्री, सीमेंट और गद्दा तोशक के व्यवसायियों से रंगदारी की मांग कर चुका है. नहीं देने पर जान से मारने की धमकी भी दे रहा है. उसके साथ ही उसके गुर्गे भी सक्रिय हो गये हैं. मंगलवार को उसके एक गुर्गे टिकली को पिस्तौल के साथ देखा गया.

लोगों ने दौड़ाया पर वह फरार हो रहा. बिल्ला के इस आतंक से तंग आकर व्यवसायियों ने मोहल्ले वालों के साथ मिल कर अपराधियों का सामाजिक बहिष्कार करने का फैसला किया है.
एकजुट हुए लोग…

इसको लेकर मंगलवार को मोहल्लेवासियों ने बैठक की.

परेशान मोहल्लेवालों ने की बैठक : रंगदारी मांगे जाने और समाज का माहौल खराब होने को लेकर मंगलवार को शहबाजनगर, कसाब टोली, हुसैनपुर और मोजाहिदपुर के लोगों ने एक साथ बैठक की. सूत्रों की मानें तो बैठक में मोजाहिदपुर थाना क्षेत्र में रहनेवाले अपराधियों का सामाजिक बहिष्कार करने का फैसला किया गया. बैठक में लोगों ने कहा कि जो अपराधी किराये पर रहता है उस मकान के मालिक से उस अपराधी को मकान खाली करने के लिए कहा जायेगा. इसके साथ ही जिस अपराधी का उस इलाके में पुश्तैनी मकान है उसे उस मोहल्ले को छोड़ने के लिए कहा जायेगा. किसी भी कीमत पर अपराधियों की मनमानी नहीं चलने देने की बात लोगों ने कही.

वार्ड पार्षद से कहा, चुनाव लड़े तो उठ जाओगे : यह भी पता चला है कि अपराधी बिल्ला ने मोजाहिदपुर इलाके के एक वार्ड पार्षद को धमकी दी है. उसने पार्षद से इस बार चुनाव नहीं लड़ने की धमकी देते हुए कहा है कि अगर वह चुनाव लड़ा तो उसकी खोपड़ी उड़ा दी जायेगी. बिल्ला के बारे में लोगों का कहना है कि वह दिनदहाड़े हथियार लेकर घूम रहा है, रंगदारी मांग रहा और धमकी दे रहा है.
बिल्ला पर दर्ज हैं संगीन मामले

मोजाहिदपुर थाना कांड संख्या 86/15, आठ मई 2015 – हत्या की कोशिश, छेड़खानी और आर्म्स एक्ट – विश्वविद्यालय थाना कांड संख्या 49/15, दो जून 2015 – लूट

तातारपुर थाना कांड संख्या 28/15, सात मई 2015 – डकैती और आर्म्स एक्ट
कोतवाली थाना कांड संख्या 534/14

रजौन थाना कांड संख्या 190/13, 21 नवंबर 2013 – बैंक डकैती
पिछले साल कई दिनों तक मचाया था आतंक : बिल्ला उर्फ शहजादा ने पिछले साल मई महीने में लगातार चार दिनों तक आतंक मचा रखा था. बिल्ला और उसके साथियों ने सात मई को कजरैली थाना क्षेत्र में सोना लूटने का प्रयास किया. सात मई को ही उसने अपने साथियों के साथ मिल कर शहबाजनगर में तमंचा लहराते हुए फायरिंग की और लोगों के साथ बदसलूकी की. आठ मई को शहबाजनगर में बीबी अंजुमन बानो के घर में घुस कर फायरिंग की और लड़कियों के साथ छेड़खानी भी की. नौ मई को मौलानाचक में तमंचा लहराते हुए फायरिंग की और बीबी अशफा के घर में घुस कर रंगदारी मांगी.

टिंकू मियां को जेल में दी थी धमकी : बिल्ला ने जेल में ही इनायतुल्ला अंसारी के भतीजे वलीउल्लाह उर्फ टिंकू मियां को केस उठाने की धमकी दी थी. वह फेंकू मियां के बेटे टिंकू मियां के गिरोह का शूटर रहा है. काफी समय तक उस गिरोह में काम करने के बाद बिल्ला ने खुद का गिरोह बना लिया. वह राणा मियां का करीबी बताया जा रहा है. फेंकू मियां के बेटों और राणा मियां के हाथ मिला लेने और बिल्ला के बाहर आ जाने से एक बार फिर अपराध के बढ़ने और गैंगवार छिड़ने की आशंका है.

वरीय अधिकारियों के निर्देश का नहीं हुआ पालन : अपराध नियंत्रण को लेकर वरीय पुलिस अधिकारियों ने सभी थानाध्यक्षों को कई बार निर्देश जारी किया है जिसमें कहा गया है कि जेल से बाहर आने वाले कुख्यात अपराधियों पर कड़ी नजर रखनी है. पर ऐसा होता दिख नहीं रहा. कैंप जेल से 15 दिसंबर को बिल्ला के छूट जाने के बाद अगर पुलिस उस पर नजर रखती तो यह स्थिति नहीं होती.
शहबाजनगर, कसाब टोली, हुसैनपुर व मोजाहिदपुर इलाके के लोगों ने बैठक कर बिल्ला सहित अन्य अपराधियों का विरोध करने का किया फैसला

23 दिसंबर 2015 को बिल्ला ने कोर्ट में किया था सरेंडर : बैंक डकैती, लूट, हत्या की कोशिश और आर्म्स एक्ट जैसे मामलों का आरोपित बिल्ला ने पुलिस से बचते हुए पिछले साल 23 दिसंबर को कोर्ट में सरेंडर कर दिया था. वह लगभग एक साल तक जेल में बंद रहा. 15 दिसंबर को वह जेल से बाहर निकला है.
किराये के मकान में रह रहे अपराधियों के मकान मालिक से उन्हें घर से हटाने को कहा जायेगा, पुश्तैनी घर वालों को मोहल्ले में किया जायेगा तिरस्कृत
बिल्ला पर नजर रखी जा रही है. किसी भी व्यवसायी ने थाना में रंगदारी मांगे जाने की शिकायत पुलिस से नहीं की है. शिकायत मिलने पर तुरंत और सख्त कार्रवाई की जायेगी.
मनोज कुमार, एसएसपी

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s