पीएम मोदी इस्तीफा दे:अरविंद केजरीवाल। 


कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाने के बाद दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने मांग की कि जब तक भ्रष्टाचार के आरोपों से पीएम का नाम बरी नहीं हो जाता, उन्हें पद त्याग देना चाहिए। केजरीवाल ने यह भी मांग की कि आरोपों की जांच सुप्रीम कोर्ट की निगरानी वाली समिति द्वारा कराई जाए। दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा, सुप्रीम कोर्ट को मामले का स्वत:संज्ञान लेना चाहिए। राहुल के आरोपों पर कांग्रेस, वाम व अन्य विपक्षी दलों ने व्यापक जांच कराने की मांग की है। राहुल ने आरोप लगाया है कि गुजरात के मुख्यमंत्री रहने के दौरान मोदी ने सहारा से पैसे लिए थे।

पीएम के खिलाफ लगे आरोप बेहद गंभीर: येचुरी
पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि प्रधानमंत्री पर निजी राजनीतिक भ्रष्टाचार के आरोप लग रहे हैं जबकि वह अपनी चिरपरिचित पाखंडपूर्ण शैली में काले धन और भ्रष्टाचार से लड़ने पर उपदेश दे रहे हैं। उन्होंने कहा, सहारा डायरियां एवं मोदी के गुजरात का मुख्यमंत्री रहने के दौरान उन पर लगे आरोप बहुत गंभीर हैं तथा उनकी जांच होनी चाहिए।
तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने इन आरोपों की सीबीआई जांच कराने की मांग की है। पार्टी के मुख्य राष्ट्रीय प्रवक्ता डेरेक ओ ब्रायन ने कहा, टीएमसी ने पहली बार इस मुद्दे को 2014 में उठाया था और इसकी समुचित जांच होनी चाहिए। यदि आवश्यक हो तो सीबीआई को मामले की जांच करनी चाहिए ताकि सत्य सामने आ सके।
बीजेपी का पलटवार, गंगा की तरह पवित्र हैं पीएम
बीजेपी की तरफ से केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने यह कहते हुए हमला किया कि राहुल अगुस्ता वेस्टलैंड मामले में परिवार के लोगों के नाम आने से परेशान हैं। कानून मंत्री ने कहा कि गंगा के समान पवित्र प्रधानमंत्री पर उनके द्वारा लगाए गए सभी आरोप बेबुनियाद और निराधार हैं। राहुल गांधी अपनी पार्टी को लगातार हार की तरफ ले जा रहे हैं और इसी हताशा में प्रधानमंत्री पर आधारहीन आरोप लगा रहे हैं। उन्होंने कहा कि बेबुनियाद, गलत, शर्मनाक और दुभार्वनापूर्ण आरोप हैं। रविशंकर प्रसाद के अनुसार सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा है कि कोई आरोप नहीं हैं।
प्रशांत भूषण ने रविशंकर प्रसाद से असहमित जताई
गुजरात के मुख्यमंत्री के तौर पर नरेंद्र मोदी के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करने वाले वकील प्रशांत भूषण ने कहा कि शीर्ष अदालत ने कई दस्तावेजों पर गौर नहीं किया है। प्रसाद की इस टिप्पणी पर प्रतिक्रिया जताते हुए भूषण ने कहा कि आरोपों के समर्थन में ठोस सामग्री के साथ आने की सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी के बाद उन्होंने और दस्तावेज हासिल किए हैं।
प्रशांत भूषण ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कई दस्तावेज नहीं देखे हैं जो हमने पेश किए हैं। हमने उसके बाद कई और दस्तावेज हासिल किए हैं। भूषण ने आयकर विभाग द्वारा 2013-14 में दो कारोबारी घरानों के यहां छापे में दस्तावेजों की कथित बरामदगी की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की है।
क्या है राहुल का आरोप
राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि सहारा के लोगों ने छह महीने में नौ बार नरेंद्र मोदी को पैसे दिए और यह उन्होंने अपनी डायरी में लिखा था। उन्होंने कहा कि आयकर विभाग ने सहारा कंपनी पर 22 नंवबर 2014 को छापा मारा था। इस छापे के दौरान वहां से मिली डायरी मिली थी। इस डायरी के रिकॉर्ड के अनुसार, 30 अक्टूबर 2013 को 2.5 करोड़, 12 नवंबर 2013 को पांच करोड, 27 नवंबर 2013 को 2.5 करोड़ रुपये और 29 नवंबर 2013 को पांच करोड़ रुपये नरेंद्र मोदी को दिए गए जब वह गुजरात के सीएम थे।

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s