भागलपुर स्टेशन चौक पर फूंका गया जेएनयू के कुलपति का पुतला। 

भागलपुर 28 दिसंबर

जेएनयू में सामाजिक न्याय से जुड़े मांगों को लेकर संघर्ष कर रहे वंचित समूहों के छात्र-छात्राओं पर जेएनयू प्रशासन के दमनात्मक कार्रवाई के विरोध में आज भागलपुर स्टेशन चौक पर न्याय मंच और प्रगतिशील छात्र संगठन के बैनर तले प्रतिवाद प्रर्दशन व जेएनयू कुलपति का पुतला दहन किया गया।

इस मौके पर नुक्कड़ सभा को संबोधित करते हुए न्याय मंच के डॉ. मुकेश कुमार और प्रगतिशील छात्र संगठन के अंजनी ने कहा कि जेएनयू जैसे सर्वोत्कृष्ट और लोकतांत्रिक परिसर में समाजिक न्याय के साथ क्रूर मजाक चल रहा है। वहां भी जाति-धर्म-क्षेत्र के आधार पर छात्र-छात्राओं के साथ वाईवा में भेद भाव किया जाता है। परिसर जीवन में ब्रह्मणवादी-सवर्ण दबदबा कायम है। लिखित परीक्षा में दलित-आदिवासी-पिछड़े-अल्पसंख्यक समुदाय के छात्र लिखित परीक्षा में अच्छा अंक हासिल करते हैं, लेकिन वाईवा में भेदभाव के कारण इन समुदायों के छात्र-छात्रा प्रवेश पाने से वंचित हो जाता है। दोनों नेताओं ने कहा कि यह हकीकत बार-बार सामने आता है कि लिखित परीक्षा में अच्छा अंक हासिल करने वाले वंचित पृष्ठभूमि के छात्र-छात्राओं को वाईवा में काफी कम अंक हासिल होता है। ऐसी स्थिति में वंचित समूहों के छात्र-छात्राओं द्वारा वाईवा का अंक 30 से घटा कर 10-15 कर देने की मांग जायज है। यह सामाजिक न्याय की गारंटी से जुड़ी मांग है। 

नुक्कड़ सभा को संबोधित करते हुए जेएनयू छात्र प्रहलाद कुमार एवं स्वतंत्र पत्रकार आशुतोष आर्यन ने कहा कि जेएनयू में हासिल फीस वृद्धि भी सामाजिक न्याय पर हमला है। वंचित समूहों-गरीब पृष्ठ भूमि से आनेवाले छात्र-छात्राओं का जेएनयू जैसे परिसर में जाने का रास्ता बंद होगा। इसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है। इस मौके पर संजीव और साजन ने कहा कि जेएनयू में माइनॉरिटी डिप्राईवशन प्वाइंट को भी  लागू किया जाना चाहिए। न्याय मंच के रिंकु ने कहा कि सामाजिक न्याय से जुड़े मुद्दे पर संघर्षरत छात्र-छात्राओं का अकादमिक व छात्रावास सुविधा से वंचित करने की जेएनयू प्रशासन की दमनात्मक कार्रवाई सामाजिक न्याय व लोकतंत्र पर हमला है। इसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है। जेएनयू में जारी लड़ाई हम सबकी लड़ाई है। जेएनयू में हुआ हमला पूरे देश के सामाजिक न्याय व लोकतंत्र पक्षधर ताकतों के लिए चुनौती है। जेएनयू में जारी सामाजिक न्याय की लड़ाई के साथ पूरे देश में खड़ा होने की जरूरत है।

इस मौके पर जितेन्द्र, सोनम राव, सुजीत, सार्थक भारत, लालू यादव, अक्षय कुमार, सुमित, जियाउद्दीन, रंजन कुमार, दुर्गेश सिंह, मंजूर आलम, राजेश सहित दर्जनों छात्र उपस्थित थे।

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s