गोड्डा कोयला खदान हादसा:अब तक दस शव निकाले गए,रेस्क्यू कार्य जारी… 


ईस्टर्न कोल फील्ड लिमिटेड (ईसीएल) की राजमहल परियोजना की ललमटिया डीप माइंस में गुरुवार की रात हुए हादसे के बाद शुक्रवार की शाम तक दस शव निकाले गए। इन सभी शवों की शिनाख्त हो गई है। कोल कंपनियों समेत एनडीआरएफ की रेस्क्यू टीम राहत कार्य में जुटी है। अभी करीब 30 लोग मलबे में दबे बताए जा रहे हैं मगर आधिकारिक संख्या नहीं मिली है। शुरुआती जांच में इस बात के संकेत मिले हैं कि स्लाइडिंग यानी ओवर बर्डन के ढहने से यह घटना घटी । ओबी ढहने के कारणों की पड़ताल की जा रही है। लापरवाही के भी साक्ष्य मिले हैं।
गुरुवार रात आठ बजे यह हादसा हुआ। उस समय विद्युत आपूर्ति ठप हो गई थी। मिट्टी-पत्थर का सौ फुट ऊंचा पहाड़ (ओबी डंप) ढहने से हादसा हुआ। जहां लोग काम कर रहे थे, उसके ऊपर 20 से 30 फीट मलबा गिर गया। जो जहां था, वहीं दब गया। कुछ ने भागने की कोशिश की लेकिन ऊपर आते-आते मलबे की चपेट में आ गए।


रात में अंधेरे के कारण बचाव कार्य नहीं चला। शुक्रवार की सुबह से शवों को निकालने का काम चला। प्रोजेक्ट के अधिकारी और कर्मचारी फरार बताए जाते हैं। आउटसोर्सिंग कंपनी महालक्ष्मी तथा सुगदेव अर्थ मूवर्स के जीएम संजय सिंह ने बयान दिया है कि खदान में घटना के वक्त सात गाड़ियां ही थीं। कितने लोग दबे हैं, इसका सही आंकड़ा उनके पास भी नहीं है। सूत्रों की मानें तो आउटसोर्सिंग कंपनी, कोयला कंपनी एवं डीजीएमएस अपनी-अपनी जिम्मेदारी निभाने में असफल रहे। सेंट्रल ट्रेड यूनियनों ने घटना को सुनियोजित हत्या का मामला बताते हुए कोर्ट ऑफ इंक्वायरी गठित करने की मांग की है।
झारखंड के मुख्य सचिव एवं डीजीपी घटनास्थल पर पहुंचे एवं बचाव कार्य का जायजा लिया। मुख्य सचिव राजबाला वर्मा ने घोषणा की कि मृतकों के परिजनों को 12-12 लाख रुपए मुआवजा दिया जाएगा। पांच लाख रुपए ईसीएल, पांच लाख रुपए आउटसोर्सिंग कंपनी तथा दो लाख का मुआवजा झारखंड सरकार देगी। शव को उनके घर तक पहुंचाने एवं घायलों के इलाज के लिए 25-25 हजार रुपए दिए जाएंगे।
डीजीएमएस ने गठित की जांच टीम
खान सुरक्षा महानिदेशक राहुल गुहा ने हादसे की जांच के लिए डीडीजी ईस्टर्न जोन यू साहा के नेतृत्व में चार अधिकारियों की जांच टीम गठित की है। टीम राजमहल पहुंच चुकी है। जांच टीम में ईस्टर्न जोन के डीडीजी हैं। घटनास्थल उन्हीं के क्षेत्र में है। इसलिए निदेशालय की लापरवाही की कितनी निष्पक्षता से जांच होगी, यह सवालों के घेरे में है। जांच टीम के साथ सर्वेयरों की एक टीम भी घटनास्थल पर गयी है।
प्रधानमंत्री ने सीएम से ली जानकारी
खान दुर्घटना के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास से फोन पर बात की और राहत कार्य की जानकारी ली। इस घटना पर प्रधानमंत्री ने गहरा दुख व्यक्त किया है। साथ ही उन्होंने राहत कार्य में हर संभव मदद का भी भरोसा दिलाया है।
राहु गांधी ने किया ट्वीट
कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को ट्विटर पर गोड्डा खान हादसे पर शोक जताते हुए अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की ।
कोयला मंत्री ने कहा जांच होगी
केंद्रीय कोयला एंव ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि गोड्डा के ललमटिया में हुए खान हादसे की जांच होगी। इसके लिए जल्द ही जांच अधिकारी के नाम की घोषणा की जाएगी।
मुख्यमंत्री ने दु:ख जताया
झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने हादसे पर दु:ख जताया है। उन्होंने गोड्डा डीसी अरिवंद कुमार से बात कर राहत और बचाव कार्य तेजी से चलाने के निर्देश दिए। सीएम ने मुख्य सचिव और डीजीपी को भी राहत कार्य के लिए भेजा।
दरार दिखी तो काम नहीं करना चाहिए था
खान हादसे की जांच करने गए अधिकारियों में से एक ने संकेत दिया कि जब ओबी में दरार की जानकारी थी तो काम नहीं करना चाहिए था। ओबी से हादसे की एक वजह दरार भी होती है। ललमटिया में किन कारणों से हादसा हुआ ,यह तो जांच के बाद ही पता चलेगा। बताया जा रहा है कि पहाड़िया टोला साइट पर छह माह पहले से मिट्टी में दरार आ गई थी। इसके बाद मजदूरों ने वहां काम करने से इनकार कर दिया था, लेकिन 27 दिसंबर को सीएमडी आरआर मिश्रा के दौरे के बाद फिर से उस साइट पर काम शुरू करा दिया गया था। अंदरखाने यह भी कहा जा रहा है कि लक्ष्य हासिल करने के दवाब में काम शुरू कराया गया।
अब तक खान में से निकाल गए दस शव
1.संजय कुमार शाही, दरिया,लोहरदगा (झारखंड)
2.नुरुल हसन, पहाड़ी मऊगंज जिला रीवा (मध्यप्रदेश)
3.शकील खान, रामगढ़ (झारखंड)
4.विकास पटेल (गुजरात)
5.हरिकिशोर यादव
6.जावेद अख्तर, परिहार, गढ़वा (झारखंड)
7.राजेन्द्र यादव
8.नागेश्वर पासवान
9.ब्रजेश यादव
10.जय प्रकाश राय

खान में दबे लोगों की सूची
ललमटिया की कोल माइंस के मलबे में अभी 25 से अधिक लोगों के दबे होने की आशंका है। फिलहाल ये नाम मिले हैं, जिन्हें दबा हुआ बताया गया है।
1.मो.जमीर (सीधी, मध्यप्रदेश)
2.मो.जुल्फिकार (सीधी, मध्यप्रदेश)
3.लल्लू खान (सीधी, मध्यप्रदेश)
4.संजीत विश्वकर्मा (सीधी, मध्यप्रदेश)
5.राजकमल गोस्वामी (सीधी, मध्यप्रदेश)
6.गगन सिंह (संहोला, भागलपुर)
7.मधुर पटेल(गुजरात)
8.भीम राम (कैमूर,बिहार)
9.परवेज अंसारी (रामगढ़, झारखंड)
10.सुनील भेंगरा
11.सुरेंद्र यादव
12.लड्डू यादव
13.अजीत पटेल
टाइम लाइन
29 दिसंबर
8.00 बजे रातः बजे गोड्डा की ललमटिया कोयला खदान में मिट्टी-पत्थर का पहाड़ गिरा
30 दिसंबर
6:30 बजे सुबहः एनडीआरएफ समेत कई टीमों ने रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू हुआ
7.20 बजे सुबहः बीसीसीएल के निदेशक तकनीक बीएन शुक्ला पहुंचे
7.30 बजे सुबहः पहला शव गुड्डू यादव का निकला
7.50 बजे सुबहः दूसरा शव मिला
12.30 बजे दोपहरः झारखंड के मुख्य सचिव और डीजीपी पहुंचे
2.00 बजे दोपहरः एनडीआरएफ की टीम रांची से पहुंची
3.00 बजे दोपहरः दस शव निकाले गए
3.30 बजे दोपहरः मुख्य सचिव ने 12-12 लाख रुपये मुआवजे की घोषणा की
4.00 बजे शामः मलबा हटाने का काम जारी रहा

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s