फेसबुक पर हुए प्यार के लिए जबलपुर से भागलपुर आ गयी थी युवती। 


फेसबुक पर हुए प्यार को बचाने के लिए जबलपुर से 30 दिसंबर को गायब हुई लड़की ने अगवा कर देह व्यापार कराने की झूठी कहानी गढ़ी थी। दरअसल वह नवगछिया के ढोलबज्जा निवासी प्रेमी के साथ नया साल मनाने के लिए खुद भागलपुर आई थी। यह सनसनीखेज खुलासा खुद लड़की के प्रेमी ने किया। उसने पुलिस को बताया कि छह माह पहले फेसबुक पर उसकी दोस्ती मध्य प्रदेश के जबलपुर निवासी युवती से हुई थी। धीरे-धीरे प्यार परवान चढ़ा और लड़की मिलने की जिद करने लगी। पर उतनी दूर से यहां आने का कोई बहाना नहीं मिल रहा था। इसलिए लड़की ने अगवा कर देर व्यापार कराने की झूठी कहानी रच दी।

इधर, गुरुवार को जबलपुर के कोतवाली थाना की दो सदस्यीय टीम भागलपुर पहुंची। उनके साथ लड़की की मां, भाई और मामी भी थी। महिला थानाध्यक्ष स्वयंप्रभा ने बताया कि जरूरी कार्रवाई के बाद लड़की को परिजन और जबलपुर पुलिस को सौंप दिया गया। पुलिस टीम में प्रधान आरक्षक भीकम सिंह और कांस्टेबल नरेंद्र थे। वे लड़की के फेसबुकिया दोस्त ढोलबज्जा निवासी अवधेश चौधरी के पुत्र आयुष आर्य को भी अपने साथ ले गए।

क्या था मामला

छोटी खंजरपुर पुलिस चौकी पर 10 जनवरी को संदिग्ध अवस्था में एक लड़की को बरारी पुलिस ने बरामद किया था। लड़की ने कहा था कि वह जबलपुर के स्टेट बैंक कॉलोनी की रहने वाली है। देह व्यापारियों ने 30 दिसंबर को जबलपुर से उसका अपहरण कर लिया था। उसे व उसके जैसी कई लड़कियों से गया में जबरदस्ती धंधा कराया जाता था। पांच लड़कियां किसी तरह वहां से भागकर भागलपुर पहुंची हैं। बाद में जब पुलिस ने उससे पूछताछ की तो मामला कुछ और ही निकला। उसने फेसबुक के जरिए हुए प्यार के चक्कर में भागलपुर आने की बात कबूली। उसने यह भी बताया कि देह व्यापारियों के चंगुल से भागने की बात झूठी थी।

छह माह पहले हुई थी फेसबुक पर दोस्ती

प्रेमी आयुष ने बताया कि लड़की से उसकी दोस्ती छह माह पहले फेसबुक पर हुई थी। दोस्ती कब प्यार में बदल गई पता नहीं चला। दोनों में मोबाइल से भी काफी बातचीत होने लगी। दोनों एक दूसरे के साथ जीने-मरने की कसमें खाने लगे। वे शादी को भी तैयार हो गए। किंतु परिजन को मनाना दोनों के लिए टेढ़ी खीर साबित हो रही थी। इस कारण लड़के ने लड़की को घर से भागने के लिए राजी किया। दोनों ने नए साल में साथ रहने का फैसला किया। इसके बाद दोनों ने बातचीत कर इतनी बड़ी साजिश रची।
31 दिसंबर भागलपुर पहुंची थी लड़की

जबलपुर की लड़की अपनी मर्जी से 30 दिसंबर को अपने घर से भागलपुर के लिए निकली थी। यहां पहुंचने में उसकी मदद एक पुरुष मित्र ने की। वह गया का रहने वाला है। इसलिए लड़की ने देह व्यापार के झूठे मामले को गया से जोड़ दिया था। लड़की 31 को भागलपुर पहुंच गई। लड़की के मित्र आयुष ने खंजरपुर स्थित एक लॉज में प्रेमिका को रखा था। आयुष भागलपुर के आदमुपर इलाके में ही रहकर प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहा है। एक जनवरी को उसने जबलपुर की अपनी मित्र को दिन भर लॉज में रखा और नया साल सेलिब्रेट किया। एक जनवरी से 10 जनवरी के बीच लड़की कई बार प्रेमी के साथ उसके कमरे पर गयी थी।

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s